बैक्टीरियल इन्फेक्शन से होते हैं ये खतरनाक जीवाणु रोग |लक्षण उपचार और प्रकार
benefits-of-yoga
योग के फायदे और प्रकार | बिना जिम गए कैसे बनाये स्वस्थ और मजबूत शरीर
October 3, 2019
Diwali-Gift-Ideas
10 Gift Ideas that Say, “Happy Healthy Diwali”!
October 14, 2019

बैक्टीरियल इन्फेक्शन से होते हैं ये खतरनाक जीवाणु रोग | लक्षण, उपचार और प्रकार


जीवाणु रोग और जीवाणु संक्रमण क्या हैं? (Bacterial Diseases – Bacterial Infections in Hindi)

बैक्टीरिया सूक्ष्म जीवित चीजें हैं जिनकी केवल एक कोशिका होती है। इसमें सहायक और हानिकारक बैक्टीरिया दोनों होते हैं। कुछ बैक्टीरिया संक्रमण और बीमारियों के कारण कोशिकाओं को नष्ट कर देते हैं, जबकि अन्य पाचन क्रिया की गतिविधिओ मे मदद करते हैं और शरीर को आवश्यक विटामिन प्रदान करते हैं। पनीर और दही ’अच्छे बैक्टीरिया’ की सक्रिय भागीदारी से बनते हैं। दूसरी ओर, ‘खराब बैक्टीरिया’ संक्रमण पैदा कर सकते है जो बाद में विभिन्न जीवाणु रोगों का कारण बन सकते है। ‘हानिकारक बैक्टीरिया आपके शरीर में अशनी से और जल्दी प्रजनन करते हैं और उनमें शरीर में कुछ विषाक्त पदार्थों को छोड़ देते हैं, जो आपके अंदरूनी टिशू को नुकसान पहुँचाकर आपको बीमार कर सकते हैं। ऐसे जीवाणुओं के उदाहरण हैं।

ई. कोली, स्टैफिलोकोकस और स्ट्रेप्टोकोकस। शरीर के अंदर या शरीर पर हानिकारक बैक्टीरिया के फैलने से उत्पन्न संक्रमण को तकनीकी रूप से जीवाणु संक्रमण या जीवाणु रोग कहा जाता है। बैक्टीरिया के लिए किसी भी तरह का वातावरण अनुकूल होता हैं – अत्यधिक ठंड से लेकर अत्यधिक गर्मी और यहां तक ​​कि रेडियोधर्मी जगह भी बैक्टीरिया के लिए घर हो सकते हैं।


एक जीवाणु संक्रमण या एक जीवाणु रोग के लक्षण क्या हैं? (Bacterial Infection Ke Lakshan)


बैक्टीरिया के प्रकार और संक्रमित जगह के आधार पर, एक जीवाणु संक्रमण के संकेत और लक्षण भिन्न हो सकते हैं। आइए यहाँ कुछ जीवाणु संक्रमण और जीवाणु रोगों के सामान्य लक्षण के बारे में जानते है।

  • बुखार
  • सरदर्द।
  • मतली या उल्टी या दस्त
  • थकान महसूस करना।
  • आंख, गर्दन या कमर में सूजन (सूजी हुई ग्रंथियां)।

क्या एक जीवाणु रोग संक्रामक हो सकता है?

बैक्टीरियल संक्रमण अत्यधिक संक्रामक हो सकता है, जिसका अर्थ है कि यदि एक व्यक्ति बैक्टीरिया रोग से पीड़ित है तो ये संक्रमण दूसरे लोगो तक भी फ़ैल सकता है, जिससे बचने के लिए आपको अतिरिक्त सावधानी बरतनी चाहिए। अगर आप संक्रमण से बचने के तरीको के बारे में जानते है तो आप खुद और दूसरे व्यक्ति को इस जानलेवा रोगो से बचा सकते हो इसलिए जिम्मेदार बने और अपना और दुसरो के स्वास्थ्य का ध्यान रखे।


जीवाणु रोग होने वाले संक्रमण से बचने के कुछ उपाय नीचे दिये गए है।

  • आप जब भी खाँसते और छींकते हो तब सावधान रहों – छींकने और खांसते समय पीड़ित व्यक्ति को रुमाल का इस्तेमाल करना चाहिए या अपने दोनों हाथो से नाक/मुँह को ढक लेना चाहिए।
  • पब्लिक साबुन इस्तेमाल न करें – पब्लिक जगह पर रखी साबुन से हाथ नहीं धोने चाहिए।
  • हाथ मिलाने – पीड़ित व्यक्ति से हाथ मिलाने से बचे या हाथ मिलाने के बाद हाथो को अच्छे से साफ करे।
  • अपनी और हाथो की साफ सफाई का ध्यान रखें – पब्लिक शौचालय का इस्तेमाल करने के बाद हाथो को अपनी साबुन या सेनीटाइज़र से अच्छे से धोना चाहिए।
  • अपनी पर्सनल समान साझा न करें – अपनी चीजे जैसे खाना, चाय का कप या अन्य पेय की बोतलें साझा करने से बचे।
  • पीड़ित व्यक्ति की चीजे इस्तेमाल करने से बचे – पीड़ित व्यक्ति के कपडे, खाना, व अन्य समान न इस्तेमाल करे और न ही कपडे पहने ।
  • यौन संबंध हमेशा सुरक्षित रखें – संक्रमण एक यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक असुरक्षित सम्बन्ध बनाने से भी हो सकता है इसलिए इस बात का ध्यान रखे और हमेशा सुरक्षित यौन सम्बन्ध ही बनाये।
  • यदि आप एक पशु प्रेमी हैं तो सावधानी बरतें – पशु इंसानो की तरह समझदार नहीं होते पर हम तो समझदार है इसलिए हमें अपने पालतू जानवरो को संक्रमण से बचा कर रखना चाहिए और अपने साथ साथ उनकी सुरक्षा का भी ध्यान रखना चाहिए।


बैक्टीरियल संक्रमणों के विभिन्न प्रकार क्या हैं? (Bacterial Infection ke Prakar)

हमारे शरीर का जो हिस्सा संक्रमण से प्रभावित हुआ है उस प्रभावित हिस्से के आधार पर हम जीवाणु संक्रमणों को विभिन्न प्रकार में बाँट सकते हैं, जैसे:

  • त्वचा सबंधित बैक्टीरियल संक्रमण: बैक्टीरियल संक्रमण जो आपकी त्वचा को प्रभावित करते है।
  • कान को प्रभावित करने वाले जीवाणु संक्रमण: ओटिटिस मीडिया (मध्य कान की सूजन संबंधी बीमारियां)।
  • मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी को प्रभावित करने वाले जीवाणु संक्रमण: बैक्टीरियल मैनिंजाइटिस।
  • ऊपरी श्वसन पथ को प्रभावित करने वाले जीवाणु संक्रमण।
  • फेफड़ों को प्रभावित करने वाले जीवाणु संक्रमण: फुफ्फुसीय तपेदिक और निमोनिया
  • पेट को प्रभावित करने वाले जीवाणु संक्रमण: खाद्य विषाक्तता और गैस्ट्रिटिस।
  • साइनस ऊतक को प्रभावित करने वाले जीवाणु संक्रमण: साइनसाइटिस।
  • नेत्र को प्रभावित करने वाले जीवाणु संक्रमण।
  • मूत्र पथ को प्रभावित करने वाले जीवाणु संक्रमण।
  • यौन संचारित: बैक्टीरियल संक्रमण जो यौन संचारित होते हैं।


बैक्टीरियल रोग क्या हैं? (Bacterial Infection Kya Hota Hai)

ऐसा बिल्कुल भी नहीं है की बैक्टीरिया हमारे लिए हमेशा दुश्मन (शत्रु) की तरह ही होते है और हमारे लिए नुकसानदायक ही होते है बल्कि बैक्टीरिया हमारे दोस्त भी होते है जैसे कुछ बैक्टीरिया हमारी पाचन क्रिया में मदद करके भोजन को पचाने में सहायता करते है तो कुछ बैक्टीरिया हमारे शरीर के लिए विटामिन प्रदान करने है जिन्हे अच्छे बैक्टीरिया कहते हैं।यहाँ बैक्टीरिया से होने वाले रोगो के बारे में चर्चा करते है और साथ ही साथ कुछ घातक जीवाणु रोगो से होने वाले नुकसान की भी चर्चा करेंगे।

बैक्टीरिया द्वारा होने वाले रोगो की एक लम्बी कतार है पर उनमे से कुछ जीवाणु रोग हैं:

  1. डिप्थीरिया :

    यह जीवाणु रोग आपके नाक और गले के श्लेष्म झिल्ली को प्रभावित करता है, आमतौर पर बुखार, गले में खराश, सूजन ग्रंथियों और कमजोरी का कारण बनता है।

  2. हैजा (कॉलरा – Cholera):

    यह जीवाणु रोग गंभीर पानी जैसे दस्त का कारण बनता है, जिसके परिणामस्वरूप निर्जलीकरण और यहां तक ​​कि मृत्यु भी हो जाती है यदि रोगी का ध्यान न रखा जाये और उसे ऐसे ही छोड़ दिया जाए। हैजा दूषित भोजन या पानी के सेवन से होता है।

  3. बुबोनिक प्लेग :

    इस मामले में, बैक्टीरिया के संपर्क के एक सप्ताह के भीतर, फ्लू जैसे लक्षण सिर दर्द, बुखार और उल्टी सहित विकसित होते हैं। सूजन और दर्दनाक नोड्स उस क्षेत्र के सबसे करीब विकसित होते हैं जहां बैक्टीरिया त्वचा में प्रवेश करता है।

  4. पेचिश :

    यह आंत (विशेष रूप से बृहदान्त्र) की एक भड़काऊ बीमारी है जो बैक्टीरिया के कारण होती है – जिसके परिणामस्वरूप पेट में गंभीर दर्द होता है और मल के साथ रक्त वाले दस्त होता है। पेचिश के लक्षणों में के साथ बार बार शौच और बुखार जैसी भावना शामिल हो सकती है।

  5. गैस्ट्रिक अल्सर :

    वे खुले घाव हैं जो आपके पेट के अंदर और छोटी आंत के ऊपरी हिस्से (पेप्टिक अल्सर) में विकसित होते हैं। सबसे आम लक्षण पेट दर्द है।

  6. कुष्ठ रोग :

    यह बैक्टीरिया से होने वाली एक छूत की बीमारी है जो श्लेष्म झिल्ली, त्वचा और तंत्रिकाओं को प्रभावित करती है, जिसके परिणामस्वरूप त्वचा पर मलिनकिरण और गांठ होती है, और यहां तक ​​कि शरीर विकृति भी हो सकती है।

  7. तपेदिक –

    यह जीवाणु रोग मुख्य रूप से आपके फेफड़ों को प्रभावित करता है और संभावित रूप से गंभीर हो सकता है। यह एक अत्यंत संक्रामक बीमारी है, जिसमें टीबी के जीवाणु खांसी और छींक से फैलते हैं।

  8. निमोनिया –

    यह जीवाणु रोग फेफड़ों की वायु थैलियों को बढ़ा देता है। वायु थैली मवाद या तरल पदार्थ से भर सकती है, जिससे मवाद या कफ के साथ खांसी, सांस लेने में कठिनाई, बुखार और ठंड लगना जैसे लक्षण हो सकते हैं।

  9. टाइफस – 

    यह टाइफस बुखार के रूप में भी जाना जाता है और वास्तव में संक्रामक जीवाणु रोगों का एक समूह है। सिरदर्द, बुखार और शरीर पर दाने आम लक्षण हैं, जो आम तौर पर एक्सपोज़र के कुछ हफ़्ते बाद शुरू होते हैं।

  10. टाइफाइड – 

    इस जीवाणु रोग से दस्त, उल्टी और तेज बुखार हो सकता है, और यहां तक कि जानलेवा भी हो सकता है। दूषित भोजन और पेय सबसे आम वाहक हैं। टाइफाइड उन क्षेत्रों में सबसे अधिक व्यापक है जहां हैंडवाशिंग (हाथ की सफाई) अक्सर कम होती है। टायफाइड बुखार के इलाज में एंटीबायोटिक दवाएं बेहद प्रभावी होती हैं। हालांकि इसे ठीक होने में समय लगता है, लेकिन दवाओं के सेवन से एक−दो दिन में ही अंतर नजर आता है।

  11. हेलिकोबैक्टर पाइलोरी (एच. पाइलोरी)

    यह वह जीवाणु रोग है जहां आपके शरीर में प्रवेश करने के बाद, जीवाणु आपके पाचन तंत्र में जगह बना कर रहना शुरू कर देते हैं। बैक्टीरिया आपके पेट या आपकी छोटी आंत के ऊपरी हिस्से में अल्सर पैदा कर सकता है। यह एक प्रकार का जीवाणु रोग है जो संभावित रूप से पेट के कैंसर के परिणामस्वरुप हो सकता है।

  12. एस्चेरिचिया कोलाई (ई. कोलाई) – 

    यह एक तरह का बैक्टीरिया है जो आमतौर पर स्वस्थ लोगों और जानवरों की आंतों में रहता है। ई। कोलाई के अधिकांश प्रकार हानिरहित हैं, जिससे दस्त सबसे अधिक होता है, लेकिन अधिक हानिकारक किस्में खूनी दस्त, गंभीर पेट में ऐंठन और उल्टी का कारण बन सकती हैं।

  13. स्टैफिलोकोकल रोग –

    इस तरह के बैक्टीरिया आमतौर पर त्वचा और नाक पर कब्जा कर लेते हैं जहां वे हानिरहित होते हैं, लेकिन वे लगभग अदृश्य घर्षण या कटौती के माध्यम से शरीर में प्रवेश कर सकते हैं, जिससे फोड़े हो सकते हैं।

  14. स्ट्रेप्टोकोकल रोग –

    जो आमतौर पर पुरुषों और महिलाओं की गले, आंत, पेशाब और प्रजनन मार्ग में होता है। ऐसे मामलों में लक्षण साधारण गले के संक्रमण से लेकर निमोनिया तक हो सकते हैं। स्ट्रेप्टोकोकल रोगों का इलाज एंटीबायोटिक दवाओं के साथ किया जाता है।

  15. साल्मोनेला (मियादी बुखार) –

    यह सामान्य जीवाणु रोग आंत्र पथ को प्रभावित करता है और आमतौर पर दूषित भोजन या पानी के कारण होता है। कुछ में बुखार, दस्त और पेट में ऐंठन हो सकती है, जबकि अन्य में कोई लक्षण नहीं विकसित हो सकते हैं।

  16. सिफलिस –

    यह एक यौन संचारित जीवाणु रोग है। पहला संकेत एक छोटा सा दर्द रहित दर्द है। यह आपके मुंह, मलाशय या यौन अंगों के अंदर दिखाई दे सकता है। इस रोग को उपदंश भी कहा जाता है।

  17. गोनोरिया –

    गोनोरिया एक यौन संचारित रोग है जो कि नीसेरिया गानोरिआ नामक जीवाणु के कारण होता है। यह जीवाणु रोग प्रजनन पथ को प्रभावित करता है, और गले, मुंह, आंखों और मलाशय के श्लेष्म झिल्ली को भी प्रभावित कर सकता है। यह एक संक्रमित व्यक्ति के साथ यौन संपर्क से फैलता है।


बैक्टीरियल संक्रमण या बैक्टीरियल बीमारियों का इलाज कैसे किया जाता है? (Treatment of Bacterial Infections)

अधिकांश जीवाणु संक्रमण और जीवाणु रोगों का एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इलाज किया जा सकता है। हालांकि, बैक्टीरिया के एंटीबायोटिक-प्रतिरोधी उपभेदों का विकास शुरू हो रहा है, जिसका अर्थ है एक प्रकार के बैक्टीरिया जो एंटीबायोटिक दवाओं के लिए प्रतिरोधी हैं और उनकी तरह काम कर सकते है। एंटीबायोटिक-प्रतिरोधी बैक्टीरिया के कुछ उदाहरण मेथिसिलिन-प्रतिरोधी स्टेफिलोकोकस ऑरियस (MRSA), मल्टीरग-रेसिस्टेंट माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस (एमडीआर-टीबी) और पेनिसिलिन-प्रतिरोधी एंटरोकॉकस हैं।

बैक्टीरियल संक्रमण (या बैक्टीरियल बीमारियों) को कैसे रोकें? (Bacterial Infection ko kaise roke)

कुछ तरीको से जीवाणु रोग (और जीवाणु संक्रमण) को रोका जा सकता है उसके लिए कुछ निम्न तरीके अपना सकते है।

  • हमेशा स्वच्छता का ध्यान रखना चाहिए।
  • टीका लगवाना।
  • बग के काटने से स्वयं की रक्षा करना।
  • सुरक्षित सेक्स करना।
  • स्वस्थ और अच्छी तरह से खाना पकाना।
  • खाने की चीजों को अच्छे से धोकर पकाना चाहिए।
  • बर्तन, चश्मा, खाना के व्यंजन या अन्य सामान साझा न करना।
  • संक्रमण के समय घर के अंदर रहना।
  • घावों, खरोंच या पिंपल्स को खुला नहीं छोडना चाहिए।
  • धुलाई और बैंडिंग (कवरिंग) करना।
  • किसी अन्य व्यक्ति का रूमाल, नैपकिन, टिश्यू या इसी तरह की अन्य वस्तुओं के साथ सीधे संपर्क से बचना चाहिए।
  • पालतू जानवरो को छूने के बाद हाथो को अच्छे से धोना।
  • पब्लिक शौचालय का इस्तेमाल करने के बाद अच्छे से हाथो को धोना।


NOTE: इस ब्लॉग को अंग्रेजी में पढ़ें। (Read this Blog in English)


Diagnostics and Blood Tests Available At House of Diagnostics (HOD).


BOOK TEST NOW


टैग्स (Tags):

bacterial infection kya hota hai, bacteria kya hota hai, bacteria kya hota hai in hindi, bacteria se kya hota hai, bacteria ka matlab kya hota hai, bacteria se hone wali bimariyan, bacteria se hone wale rog bataye, bacteria se hone wale rogon ke naam, bacteria in hindi, bacterial infection ka ilaj, infection ke lakshan in hindi, bacterial infection meaning, bacteria bimari, bacterial infection ke lakshan, bacterial infection ko kaise roke, bacterial infections in hindi



Summary
 जानिए बैक्टीरियल इन्फेक्शन से होने वाले खतरनाक जीवाणु रोगो के बारे में, लक्षण और उनके उपचार
Article Name
जानिए बैक्टीरियल इन्फेक्शन से होने वाले खतरनाक जीवाणु रोगो के बारे में, लक्षण और उनके उपचार
Description
एक जीवाणु (Bacteria) एक कोशिकीय जीव है। जानिए बैक्टीरियल इन्फेक्शन से होने वाले खतरनाक जीवाणु रोगो के बारे में, उनके लक्षण क्या है और उनके लिए आपको क्या उपचार करना चाहिए। बैक्टीरिया से होने वाले संक्रमण तथा उससे सम्बन्धित जीवाणु व् रोग
Author
Publisher Name
HOD
Publisher Logo